Kaam Bhaari – Mohabbat Lyrics in Hindi and English

Mohabbat Lyrics in Hindi and English

Na roka kisi ne kisi ko yahaan pe
Bas toka jo tune tha mujhko wahaan pe
Ghalti se galtiyaan ban’ne lagi thi
Hum dhalne lage jaise kaale ho baadal

Hum chaadar ke neeche jo
Ho kar bhi bichhde the
Guzre kal ki baatein
Pal pal jo kheench rahe the
Kajal mein tere main rehna jo chaahu
To aa kar mere paas
Pagal keh kar mujhko
Waapis tum apnana
Chhup jaana baadal mein
Pariyon ki rani tum
Insaan awara main
Ya phir bechara main
Chaahat ki khoj mein

Raahat jo mil jaaye aahat se tere
Main rag rag hoon jab tak hai dhadkan
Main raqbat ka rishta hoon
Sukh dukh mein tere main kaantu savere
Jo aankhon ke neeche jo
Kaale ghere saare apne bana loon
Main tumko chura lu main tumse

Hum aafat-e-aashiq
Iss kagaz ke tukde pe likhte hai ISHQ.

Ijaazat jo tum do toh
Mujhko tum samjho toh
Has do toh jaanu main chaahat ki mehfil
Mohabbat karte tumse hum par yaqeen kar
Mohabbat karte tumse…

Mohabbat karte tumse…(x4)
Mohabbat karte tumse Hum par yaqeen kar
Mohabbat karte tumse…(x7)

Mohabbat karte tumse Hum par yaqeen kar
Mohabbat karte tumse

Hum baatein banaane mein
Hum baatein banaane mein
Hum baatein banaane mein
Shaayar se ban gaye hain
Layak se the par
Nalaayak se ban gaye hain
Kho kar paoon tujh ko aasaan ho mushkil
Tum kehna mujhko kal ko joker aur buzdil jo
Sun kar saari baatein tumse kahunga main
Azaad panchi hoon
Udna jo chaahu to marna bhi chaahu
Main gir ke zameen par
Mohabbat karte tumse hum par yaqeen kar.

Hum thokar kha kar ro kar hasne lage hain
Din dhalne lage hain
Hum darne lage hain
Dum lagne laga hai
Sar chadne laga hai
Gham badhne laga hai
Aur tum jo na ho
Har pal tham sa gaya hai

Main jitna bhi kar sakta utna karunga
Aur phoolon ki kyaari guldastan bhi doonga
Mohabbat karte tumse hum par yaqeen kar
Mohabbat karte tumse hum par yaqeen kar
Mohabbat karte tumse hum par yaqeen kar
Mohabbat karte tumse…(x3)

Mohabbat karte tumse…(x2)
Mohabbat karte tumse hum par yaqeen kar
Mohabbat karte tumse…
Mohabbat karte tumse…(x6)

Mohabbat karte tumse hum par yaqeen kar
Mohabbat karte tumse…(x4)

ना रोका किसी ने किसी को यहां पे
बस टोका जो तूने था मुझको वहाँ पे
ग़लती से गलतियां बन’ने लगी थी
हम ढलने लगे जैसे काले हो बादल

हम चादर के नीचे जो
हो कर भी बिछड़े थे
गुज़रे कल की बातें
पल पल जो खींच रहे थे
काजल में तेरे मैं रहना जो चाहु
तो आ कर मेरे पास
पागल कह कर मुझको
वापिस तुम अपनाना
छुप जाना बादल में
परियों की रानी तुम
इंसान आवारा मैं
या फिर बेचारा मैं
चाहत की खोज में

राहत जो मिल जाए आहात से तेरे
मैं रग रग हूँ जब तक है धड़कन
मैं रकबत का रिश्ता हूँ
सुख दुःख में तेरे मैं कांटू सवेरे
जो आँखों के नीचे जो
काले घेरे सारे अपने बना लूं
मैं तुमको चुरा लू मैं तुमसे

हम आफत-ऐ-आशिक़
इस कागज़ के टुकड़े पे लिखते है इश्क़.

इजाज़त जो तुम दो तो
मुझको तुम समझो तो
हस दो तो जानू मैं चाहत की महफ़िल
मोहब्बत करते तुमसे हम पर यक़ीन कर
मोहब्बत करते तुमसे…

मोहब्बत करते तुमसे…(x4)
मोहब्बत करते तुमसे हम पर यक़ीन कर
मोहब्बत करते तुमसे…(x7)

मोहब्बत करते तुमसे हम पर यक़ीन कर
मोहब्बत करते तुमसे

हम बातें बनाने में
हम बातें बनाने में
हम बातें बनाने में
शायर से बन गए हैं
लायक से थे पर
नालायक से बन गए हैं
खो कर पाऊं तुझ को आसान हो मुश्किल
तुम कहना मुझको कल को जोकर और बुज़दिल जो
सुन कर सारी बातें तुमसे कहूंगा मैं
आज़ाद पंछी हूँ
उड़ना जो चाहु तो मरना भी चाहु
मैं गिर के ज़मीन पर
मोहब्बत करते तुमसे हम पर यक़ीन कर

हम ठोकर खा कर रो कर हसने लगे हैं
दिन ढलने लगे हैं
हम डरने लगे हैं
दम लगने लगा है
सर चढ़ने लगा है
ग़म बढ़ने लगा है
और तुम जो ना हो
हर पल थम सा गया है

मैं जितना भी कर सकता उतना करूँगा
और फूलों की क्यारी गुलदस्तां भी दूंगा
मोहब्बत करते तुमसे हम पर यक़ीन कर
मोहब्बत करते तुमसे हम पर यक़ीन कर
मोहब्बत करते तुमसे हम पर यक़ीन कर
मोहब्बत करते तुमसे…(x3)

मोहब्बत करते तुमसे…(x2)
मोहब्बत करते तुमसे हम पर यक़ीन कर
मोहब्बत करते तुमसे…
मोहब्बत करते तुमसे…(x6)

मोहब्बत करते तुमसे हम पर यक़ीन कर
मोहब्बत करते तुमसे…(x4)

Mohabbat Song Lyrics Details:

5 October 2019

Kaam Bhaari

RĀKHIS & NUKA

Kaam Bhaari, Tejasvi

S. Ravi Varman

IncInk

Share it by Clicking these Buttons!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *